UPI Light क्या है // UPI Id कैसे बनाये, इसके फायदे और नुकसान

Spread the love

इंटरनेट आने के बाद दुनिया का हर काम काफी आसान हो गया है जैसे-जैसे इंटरनेट बढ़ा है वैसे वैसे पेमेंट भुगतान के तरीके भी बढे हैं और उन्हीं तरीको में से एक है UPI Light जिसका क्रेज भारतीयों में सिर चढ़कर बोल रहा है. तो आज आर्टिकल में जानेंगे UPI और UPI Light से संबंधित सभी सवालों के जवाब

राजस्थान की बहुत ही सुन्दर झील / Lake 👉 विडियो देखे

IMPS kya Hai

यूपीआई एक रियल टाइम पेमेंट ट्रांसफर सिस्टम है जो एक मोबाइल प्लेटफार्म के जरिए दो बैंक अकाउंट के बीच में  रियल टाइम मनी ट्रांसफर का काम करता है,  यह सिस्टम IMPS  Immediate payment service तकनीक पर आधारित है

यह देखे 👉 क्रेडिट कार्ड के फायदे Click Here

Bhim light , What is UPI

UPI Light kya Hai

यूपीआई लाइट एक ऑनडिवाइस वॉलेट सुविधा है जिसमें ग्राहक  अपने यूपीआई पिन का यूज किए बिना ही ₹200 तक का पेमेंट कर सकते हैं  यूपीआई लाइट वॉलेट में एक समय में अधिकतम ₹2000 तक बैलेंस रखा जा सकता है

UPI Light के फायदे

Bhim Light, Bhim का ही एक उपग्रेट वर्जन है, जिसको UPI की बढ़ती लोकप्रियता को देखते हुये विकसित किया गया है

  • बार बार UPI पिन डालने छूटकाकारा मिलेगा
  • बिना internet के भी UPI ट्रांजेक्शन संभव होगा
  • One Time अधिकतम 200रु का पेमेंट हो सकेगा
  • UPI Light वॉलिट में अधिकतम 2000 तक बेलेंस रखा जा सकेगा
  • UPI की एक बड़ी प्रॉब्लम ये थी की इसके ट्रांजेक्शन अकाउंट स्टेटमेंट में ऐड होते थे अब इससे भी छुटकारा मिल गया है Bhim Light के ट्रांजेक्शन अकाउंट में स्यो नहीं होंगे

Bhim Light कैसे काम करता है

Bhim Light ऑनडीवाइस वॉलेट की तरह काम करता है जिसमें किसी पर प्रकार की खरीदारी का एक समय में अधिकतम 200रु तक का पेमेंट किया जा सकता, साथ ही इस वॉलेट में एक साथ 2000 तक पेमेंट रखा जा सकता है, साथ ही इससे पैसे भेजने के लिए इंटरनेट की भी जरूरत नहीं रहती है

यह भी जाने 👇👇

👉Yono क्या है, SBI Yono के फायदे // Benefits of Yono SBI
👉Credit Card kya hai / क्रेडिट कार्ड सम्बंधित A to Z जानकारी

UPI ki Full Form kya Hai

UPI की फुल फॉर्म है Unified Payment Interface यूपीआई की शुरुआत 11 अप्रैल 1916 को एक पायलट प्रोजेक्ट के रूप में शुरू की गई थी

यूपीआई से कुल कितनी बैंक के जुड़ी हुई है

यूपीआई की शुरुआत 2016 में कुल 21 सदस्य बैंकों के साथ की गई थी,  इसके बाद धीरे-धीरे बैंकों की संख्या बढ़ती गई और वर्तमान में यूपीआई आधारित बैंकों की संख्या 140 से अधिक है

यूपीआई का जनक कौन है

भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम एवं भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा यूपीआई को शुरू किया गया था, यूपीआई भुगतान लेनदेन को काफी काफी सुविधाजनक बनाता है जिसको NPCI National Payments Corporation of India दोबारा संचालित किया जाता है.

5/5 - (1 vote)

Leave a Comment